कौशिल्या का मायका छत्तीसगढ़ है: मुख्यमंत्री

  मुंगेली, 07 जनवरी। छतीसगढ के मुख्यमंत्री  भुपेश बघेल ने कहा है कि भारत देश संत महात्माओं का देश है। 



उन्होने कहा कि संत महात्माओं के विचारों और उपदेशों में परोपकार की भावना होती है। संत महात्माओं के संदेश और विचार किसी एक समाज के लिए नहीं होते, यह पूरे मानव समाज के लिए होते हैं। 
 


बघेल आज मुंगेली जिले के विकासखण्ड पथरिया के ग्राम मोतिमपुर स्थित अनुरागी धाम में आयोजित अखंड नवधा रामायण के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे। इसके पूर्व  बघेल ने यज्ञ स्थल में आहुति और पूजा अर्चना कर प्रदेश की जनता की खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा और अनुरागी धाम समिति द्वारा आयोजित अखण्ड नवधा रामायण के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री बघेल का  के.के. श्रीवास्तव और उनके परिवार द्वारा महा माला पहनाकर तथा सुआ नृतक दलों की महिलाओं ने सुआ नृत्य कर भव्य स्वागत किया। 


   उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की संस्कृति में राम बसे है यहां के लोग परस्पर भेंट मुलाकात के दौरान राम-राम का उच्चारण करते हैं, उन्होनें कहा कि भगवान राम की माता कौशिल्या का मायका छत्तीसगढ़ है, भगवान राम ने वन गमन का अधिकांश समय छत्तीसगढ़ में बिताया है।


उन्होनें कहा कि भगवान राम का वन गमन का मार्ग कोरिया से कोंटा तक चिन्हांकित है। उन्होनें कहा कि भगवान राम ने जिस मार्ग पर चले है उस मार्ग को राम वन गमन पथ के नाम से विकसित करने का फैसला छत्तीसगढ़ सरकार ने लिया है। मुख्यमंत्री  बघेल ने कहा कि अनुरागी धाम पहले उबड़-खाबड और वीरान था अब यह पवित्र स्थल बन गया है।