वित्त मंत्री और आरबीआई के निर्णय आम लोगों ,श्रमिकों,किसानों ,महिलाओं,कारो​बारियों,बैेकों,को आर्थिक मजबूती देंगे :गौतम


जयपुरJaipur,27मार्च । आलॅ इंडिया ग्रामीण बैंक आफ आफीसर्स आगनाईजेशन और आलॅ इंडिया ग्रामीण वकर्स आगनाईजेशन All India Gramin Bank of Officers Organization and All India Grameen Walkers Organization के समन्वयक आर के गौतम ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  द्वारा कल गई घोषणाओं तथां रिजर्व बैंक आफॅ इंडिया:RBI  : द्वारा आज रेपो रेट करने व अन्य घोषणाओं का स्वागत करते हुए कहा कि इससे आम लोगों,मजदूरों,महिलाओं, किसानों,
कारो​बारियों और बैंकों को मदद मिलेगी ।
 


गौतम ने कहा कि कोरोना की वजह से जहां एक और आम लोग, मजदूर,किसान, महिला,कारोबारी  और बैंकों को आर्थिक मदद की जरूरत थी ऐसे में वित्त मंत्री और आरबीआई द्वारा की गई घोषणाएं इस वर्ग को आक्सीजन का काम करेगी ।


उन्होने कहा कि भारत सरकार द्वारा 1.70 लाख करोड रूपये के राहत पैकेज गरीबों,किसान, आम लोगों, श्रमिकों, मजदूर हितैषी कदम है । उन्होने कहा कि  चार लरख कम्पनियों और 80 लाख कर्मचारियों को पीएफ की राशि अगले तीन महिने तक जमा नहीं करानी होगी जिनके यहां एक सौ से कम कर्मचारी है ।
 


आर के गौतम ने कहा कि आरबीआई द्वारा आज सीआरआर CRR और रेपो  रेट कम किए जाने सहित अन्य घोषणाओं से महिलाओं, किसानों, कारोबारियों और बैंकों को मजबूती ​मिलेगी जिसकी अभी बहुत जरूरत थी ।इन निर्णयों से लाखों किसानों, लोगों, मध्यम वर्ग कारोबारियों को लाभ मिलेगा तथा बैकों और बाजार को मजबूती मिलेगी ।
 


उन्होने कहा कि आरबीआई के  तीन निर्णय से किसानों, कर्मचारियों,कारोबारियों को टर्म लोन:मियादी रिण: की तीन किश्ते जमा नहीं करवानी होगी इनमें हाउसिंग रिण, किसानों द्वारा लिए गये कर्ज सहित अन्य रिण शामिल है ।ओर यह राशि बैकों के एनपीए में शामिल नहीं होगा ।तथा बैंकों की आहरण क्षमता का पुन: निर्धारण किया जाएगा ।बैेंकों के पास 1लाख 37 हजार करोड रूपये बैंकों के पास रहेंगे जिससे बैंक अपनी आर्थिक जरूरतों को पूरी कर सकेंगे ।


 गौतम ने कहा कि आरबीआई ने आर्थिक मजबूती देने के लिए :बुस्ट: करने  के लिए 2लाख 80 हजार करोड रूपये की राहत दी है जो GDP का 3.2 फीसद है ।



गौतम ने कहा कि आरबीआई RBI द्वारा रेपो रेट5.15 फीसदी से घटकर 4.40 करना , बैकों को ईएमआई का भुगतान कर रहे लोगों को तीन महिने की राहत देने की सलाह देना तथा रेपो रेट में 75 बेसिस प्वाइंट की कटौती करने से रेपो रेट घट कर 4.40 प्रतिशत हो गई है ।आरबीआई का यह ऐतिहासिक निर्णय है जिसकी अभी अत्यन्त जरूरत थी ।